द चैंपियनशिप्स, विंबलडन

रोलेक्स की दुनिया

विंबलडन का परिचय

आखिर वह क्या है जो द चैंपियनशिप, विंबलडन को खास बनाता है?

दुनिया के सबसे पुराने टेनिस टूर्नामेंट के इतिहास से भी आगे, इसका अनूठा माहौल और लंबे समय से चली आ रही परंपराएं? ऑल इंग्लैंड क्लब वह जगह है, जहां बड़े-बड़े खिलाड़ी अपने अनुशासन से आगे बढ़कर खेल के मानकों को आगे बढ़ाते हैं। ऐसे मानक जो खेल के लिए बनते हैं और जो जीवन में साथ निभाने के लिए बनते हैं। यह वही जगह है जहाँ इतिहास रचे जाते हैं। साल 1978 में रोलेक्स इस इंग्लिश समर रिचुअल का आधिकारिक टाइमकीपर बना और ग्रैंड स्लैम® के चार इवेंट के साथ जुड़कर अपने इस पनपते रिश्ते को विस्तार दिया।

रॉजर फे़डरर

2003 में रिकॉर्ड आठ पुरुष एकल खिताबों में से पहला जीतने के बाद से, रॉजर फे़डरर का, द चैंपियनशिप, विंबलडन के साथ एक खास रिश्ता रहा है। इन पवित्र घास कोर्ट के साथ उनका लगाव एक शानदार पेशेवर करियर के दौरान जारी रही है। स्विस सनसनी ने 35 साल की उम्र में, साल 2017 में विंबलडन के ताज पर आठवीं जीत हासिल करके, अपने कौशल के लिए आजीवन समर्पण को दर्शा दिया। अपने कुशल, सुरुचिपूर्ण खेल के लिए प्रसिद्ध, फेडरर पहले व्यक्ति बने, जिन्होंने अपने अभूतपूर्व खेल से 20 एकल ग्रैंड स्लैम® खिताब हासिल किए।

  • 2003
  • 2004 - 2005
  • 2006
  • 2007
  • 2009
  • 2012 - 2017
  • प्रत्येक रोलेक्स एक कहानी बयान करती है

    “मुझे एहसास हुआ कि मैं विश्व नंबर एक बनने वाला पहला स्विस व्यक्ति बन सकता था। उसी समय मुझे याद आया था कि जो कुछ भी पहले नहीं किया गया है, मैं उस मुक़ाम तक पहुँच सकता हूँ।”

    पूरी कहानी के बारे में जानें

एंजेलीक कर्बर

एंजेलिक कर्बर इस बात का जीता जागता सबूत है कि कड़ी मेहनत, समर्पण और लगन का संयोजन लंबे समय में प्रतिफल देता है। 2003 में पेशेवर खिलाड़ी बनने के बाद, उन्हें पहला ग्रैंड स्लैम® एकल खिताब जीतने में 13 साल लग गए, जो उन्होंने 2016 ऑस्ट्रेलियन ओपन में जीतकर हासिल करना एक उपलब्धि है। सबसे बड़े टेनिस चरणों में से एक में सफलता का स्वाद चखने के बाद, जर्मनी के इस बाएँ हाथ के खिलाड़ी ने उस वर्ष के अंत में यूएस ओपन में जीत हासिल की और विश्व में नंबर 1 रैंकिंग का दावा किया। साल 2018 में द चैंपियनशिप, विंबलडन जीतकर अपनी सूची में तीसरा एकल ग्रैंड स्लैम® का ताज जोड़ा।

गार्बिनी मुगुरुज़ा

गार्बिनी मुगुरुज़ा ने 2017 में द चैंपियनशिप, विंबलडन में अपना दूसरा एकल ग्रैंड स्लैम® खिताब जीता, जिसने पिछले साल रोलां-गैरोस में अपना पहला ताज हासिल किया था। ये खिताब उनके लिए इस बात का इनाम थे, जब उनके माता-पिता अपना परिवार वेनेज़ुएला से स्पेन ले गए थे, तब वे टेनिस में आगे बढ़ने के लिए सिर्फ़ पाँच साल की थीं। उनके बलिदानों को ध्यान में रखते हुए, गार्बिनी मुगुरुज़ा ने उन्हें गर्वित करने के लिए अथक प्रयास किए, वे 2012 में पेशेवर बनी और दो साल बाद टॉप 20 में प्रवेश किया। वह अपनी विंबलडन जीत के दो महीने बाद रैंकिंग में शिखर पर पहुंची।

बियोन बौर्ग

1976 के जुलाई की एक गर्म दोपहर को, अपने पहले विंबलडन खिताब की जीत का जश्न मनाने के लिए बियोन बौर्ग सेंटर कोर्ट पर घुटनों के बल बैठ गए। वो शायद लड़कपन के किसी सपने की पराकाष्ठा हो, लेकिन ये तो बस शुरुआत ही थी। बौर्ग ने ऑल इंग्लैंड क्लब में अगले चार खिताब जीते और खुद को सर्वकालिक महानतम खिलाड़ियों में शामिल किया, और कुल 11 ग्रैंड स्लैम® जीतों में से छः रोलां-गैरोस पर खिताब जीते। अपने शांत स्वभाव, सहनशीलता और बेहद सुसंगत ग्राउंडस्ट्रोक्स के लिए मशहूर, ये स्वीडिश खिलाड़ी, 1987 में इंटरनेशनल टेनिस हॉल ऑफ फ़ेम में शामिल किए गए।

यह पेज शेयर करें