रोलेक्स और सिनेमा

विज़न से भी आगे बढ़कर

मास्टरपीस क्या है?

कल्पनाओं की विरासत? 

सपष्टत:

लेकिन वह भी अनगिनत





टेक्नीशियन के

इंजीनियर

आर्टिस्ट

जो न सिर्फ़ ‘है 'का लगातार पीछा करते हैं

लेकिन क्या
‘हो सकता है’

और अपनी अगली पीढ़ी पर भरोसा करते हैं, ताकि

उनकी विरासत बरकरार रहे।

क्या यह विज्ञान है?

या फिर सुंदरता की भावना?

मास्टरपीस इन दोनों का ही समन्वय है।

समय के साथ रहने वाली

और यही वजह है कि इसका जश्न मनाना क्यों ज़रूरी है।

यह पेज शेयर करें