20 ग्रैंड स्लैम® ख़िताब विजेता और सबसे अधिक विंबलडन ख़िताब जीतने वाले रिकॉर्ड धारक रॉजर फेडरर आज तक के महानतम टेनिस खिलाड़ियों में से एक हैं। लेकिन स्विट्ज़रलैंड में जन्मे फेडरर के लिए, टेनिस हमेशा बस रिकॉर्ड तोड़ने से ही संबंधित नहीं रहा। यह 2009 तक नहीं हुआ था — वही गर्मी जिसमें उनके पहले जुड़वा बच्चों का भी जन्म हुआ था — जब रॉजर ने विंबलडन में पीट सैमप्रास के सर्वकालिक ग्रैंड स्लैम® रिकॉर्ड को तोड़ा, तब उन्होंने महानता की अपनी व्यक्तिगत परिभाषा प्राप्त कर थी। जो रोलेक्स उस दिन उन्होंने पहनी हुई थी, वो उस निर्णायक ग्रीष्म ऋतु की स्वर्णिम यादें वापिस लाती है।

मेरे लिए रिकॉर्ड तोड़ना कभी भी महत्वपूर्ण नहीं रहा। मेरे लक्ष्य ज़मीन से जुड़े हुए थे, बहुत ही सामान्य, मैं शीर्ष 100 या संभवतः शीर्ष 10 टेनिस खिलाड़ियों में शुमार होने की आशा रखता था। हालांकि, अपने सपनों तक पहुँचने के लिए मैं हर संभव प्रयास करता था।

मेरे जीवन में वास्तव में परिवर्तन तब आया, जब मैं 14 वर्ष का था, और मैं घर छोड़ कर स्विस नेशनल ट्रेनिंग सेंटर में प्रशिक्षण के लिए निकल पड़ा था। यही वो समय था जब मैं एक लड़के से एक पुरुष बना, ये मेरे जीवन के सबसे महत्वपूर्ण तीन वर्षों में से थे। मैंने यह समझने की कोशिश की कि मानसिक शक्ति, वास्तव में होती क्या है।

लेकिन मुझे इसे प्राप्त करने और एक टेनिस कोर्ट पर पूरी तरह सहज महसूस करने में छह वर्ष और लगे। मुझे मुश्किल तरीकों से सबक सीखने पड़े, अनियंत्रित भावनाओं के कारण एक और मैच हारने पर बुरी तरह हताश हो जाना। अंततः, जिस समय मैं सही मुकाम पर पहुँचा, मुझे इतना अच्छा और बेहतर महसूस हुआ कि उस में फिर कभी बदलाव नहीं हुआ।

मेरा स्वदेश, स्विट्ज़रलैंड, मुझे वह व्यक्ति बनाने में बहुत महत्वपूर्ण रहा, जो आज मैं हूँ। आखिरकार, मुझे यह एहसास हुआ कि मैं वर्ल्ड नंबर वन बनने वाला पहला स्विस व्यक्ति बन सकता हूँ। यही वो समय था जब मुझे एहसास हुआ कि, जो कुछ भी पहले नहीं किया गया है, मैं उसे प्राप्त कर सकता हूँ। और फिर यह हुआ। तो फिर मैंने इसे गले लगा लिया और मैंने प्रतिद्वंदिता से, रिकॉर्ड जो तोड़े जा सकते हों उनसे, और टूर्नामेंट जिन्हें खेलना मुझे बेहद पसंद था उनसे, प्रेरणा और प्रोत्साहन लिया।

जब मैं घड़ी की ओर देखता हूँ, तो मेरे मन में वो दिन जीवंत हो उठता है।

फिर आया 2009। मैंने उस गर्मी में बस अभी अभी पहली बार फ्रेंच ओपन जीता था और मैं विंबलडन को जा रहा था, पीट सैमप्रास के सर्वकालिकग्रैंड स्लैम® रिकॉर्ड को तोड़ने की कोशिश करने। जब मैंने वास्तव में, रॉडिक के विरुद्ध पाँच सेटों में एक महान जीत दर्ज की, तो मुझे विश्वास ही नहीं हुआ। मैं उस पूरे मैच को अंतिम गेम तक ब्रेक नहीं कर पाया और उसी ने मुझे जीत दिलाई। अंतत जब मैं ट्रॉफी उठाने में सफल हुआ, तो मैंने अपनी कलाई पर अपनी रोलेक्स पहनी हुई थी।

यही कारण है कि यह घड़ी विशेष रूप से मेरे लिए महत्वपूर्ण है। जब मैं इसकी ओर देखता हूँ, तो मेरे मन में वो दिन जीवंत हो उठता है: पीट सैमप्रास फ़ाइनल देखने आए थे — उन्होंने कहा था कि जब भी मुझे उनका रिकॉर्ड तोड़ने का मौका मिलेगा तो वो अवश्य देखने आएंगे। बियोन बौर्ग भी वहाँ मौजूद थे, जॉन मैकएंरो कोमेंट्री कर रहे थे, और वहाँ पर रॉड लेवर भी मौजूद थे। टेनिस के कई महान खिलाड़ी वहाँ मौजूद थे। और जब मैं बाहर आया, तो वे सभी मुझे शुभकामनाएँ देने के लिए सीढ़ियों से नीचे उतर कर आए और रिकॉर्ड तोड़ने पर मुझे बधाई दी। टेनिस परिवार का प्रेम मिलना बहुत ही सुखद अनुभव था, जो मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

जब भी मैं अपनी रोलेक्स पहनता हूँ, तो मुझे वो अविस्मरणीय पल याद आ जाते हैं। ये मुझे यह भी याद दिलाता है कि, यदि आप कड़ी मेहनत नहीं करेंगे, तो कोई और अवश्य करेगा और वो अंततः आपसे आगे निकाल जाएगा। इसलिए आपको दृढ़ और काफी हद तक निर्मम होने की भी ज़रूरत है, लेकिन हमेशा सही रहें और स्टाइल से खेलें। मेरा मानना है कि यह वाकई में बहुत महत्वपूर्ण है।

रॉजर फेडरर की घड़ी

ऑयस्टर परपेचुअल डेटजस्ट II