रोलेक्स का इतिहास अनन्य रूप से इसके संस्थापक हैंस विल्सडोर्फ़ की दूरदर्शी विचारधारा से जुड़ा हुआ है।

1905

हैंस विल्सडोर्फ़

रोलेक्स का इतिहास अनन्य रूप से इसके संस्थापक हैंस विल्सडोर्फ़ की दूरदर्शी विचारधारा से जुड़ा हुआ है। 1905 में, 24 वर्ष की आयु में, हैंस विल्सडोर्फ़ ने लंदन में टाइमपीस के वितरण में विशेषज्ञता रखने वाली एक कंपनी की स्थापना की। वे कलाई पर बाँधने वाली एक घड़ी का सपना देखने लगे। उस समय कलाई घड़ियाँ बहुत सटीक नहीं होती थी, लेकिन हैंस विल्सडोर्फ़ ने पूर्वानुमान लगा लिया कि वे न केवल सुरुचिपूर्ण बल्कि भरोसेमंद भी बन सकती थी।

अपनी बिलकुल अभिनव घड़ियों की विश्वसनीयता का लोगों को विश्वास दिलाने के लिए, उन्होनें उनको बिएन में एक स्विस घड़ी निर्माता कंपनी द्वारा निर्मित छोटे किंतु बहुत सटीक मूवमेंट से सुसज्जित किया।

1905 - हैंस विल्सडोर्फ़
  • ब्रांड
    बनाना

    हैंस विल्सडोर्फ़

  • 1908

    पाँच अक्षरों में निपुण


    हैंस विल्सडोर्फ़ अपनी घड़ियों को एक ऐसा नाम देना चाहता थे जो छोटा हो, बोलने में और किसी भी भाषा में याद रखने में आसान हो, और जो घड़ी के मूवमेंट और डायल पर अच्छा दिखाई दे।

    और पढ़ें
  • 1910

    क्रोनोमीट्रिक सटीकता
    की खोज

    रोलेक्स ने सबसे पहले मूवमेंट की गुणवत्ता पर ध्यान केंद्रित किया । क्रोनोमीट्रिक सटीकता के लिए निरंतर खोज ने सफलता तक पहुँचा दिया। 1910 में, एक रोलेक्स घड़ी दुनिया में पहली ऐसी घड़ी थी जिसे बिएन में आधिकारिक घड़ी रेटिंग केंद्र द्वारा स्वीकृत क्रोनोमीट्रिक सटीकता का स्विस प्रमाण-पत्र प्राप्त हुआ था।

  • 1914

    क्रोनोमीट्रिक सटीकता
    की खोज


    चार साल बाद,1914 में, ग्रेट ब्रिटेन में क्यू वेधशाला ने एक रोलेक्स कलाई घड़ी को वर्ग “A” सटीकता प्रमाण-पत्र प्रदान किया, यह एक ऐसी विशिष्टता है जो उस समय तक केवल मैरीन क्रोनोमीटर के लिए ही आरक्षित थी। उस दिन के बाद से, रोलेक्स कलाई घड़ी सटीकता की पर्याय रही है।

1919

जेनेवा

रोलेक्स अंतरराष्ट्रीय रूप से घड़ीसाज़ी के लिए प्रसिद्ध शहर, जेनेवा पहुँच गई। 1920 में जेनेवा में मॉंट्रेस रोलेक्स एस.ए. की स्थापना की गई।

रोलेक्स इतिहास जेनेवा 1919